Sharab Daru Nasha Shayari

Hindi Shayari Sharabi:- If you like sharab shayari in hindi shayari about sharab then this the place for you. we have good collection of sharabi shayari , daru shayari,nasha shayari hindi. Hope you will like our best shayari on sharab.To read more shayari like sad shayari, love shayari,romantic shayari you may subscribe our website with email www.hindishayari.guru
Sharabi Shayari in Hindi pic
Ek Pal Mein Le Gayi Mere Saare Gham Khareed Kar,Kitni Ameer Hoti Hai Ye Botal Sarab Ki.

एक पल में ले गई मेरे सारे ग़म खरीद कर,कितनी अमीर होती है ये बोतल शराब की।
shayari on sharab and khuda photo

Kabhi Ulajh Pade Khuda Se Kabhi Saqi Se Hangama,Na Namaaz Adaa Ho Saki Na Sharab Pee Sake.

कभी उलझ पड़े खुदा से कभी साक़ी से हंगामा,ना नमाज अदा हो सकी ना शराब पी सके।

Nateeja BeWajah Mehfil Se Uthhwane Se Kya Hoga,Na Honge Hum Toh Saqi Tere Maikhane Se Kya Hoga.

नतीजा बेवजह महफिल से उठवाने का क्या होगा,न होंगे हम तो साकी तेरे मैखाने का क्या होगा।
Sharab Shayari in Hindi Font free

Peete The Sharab Hum Usne Chhudayi Apni Kasam Dekar,Mehfil Mein Yaaron Ne Pila Di Usi Ki Kasam Dekar.

पीते थे शराब हम उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,महफ़िल में यारों ने पिलाई उसी की कसम देकर।

Ye Na Poochh Main Sharabi Kyun Hua, Bas Yoon Samajh Le,Ghamo Ke Bojh Se, Nashe Ki Botal Sasti Lagi.

ये ना पूछ मैं शराबी क्यूँ हुआ, बस यूँ समझ ले,गमों के बोझ से, नशे की बोतल सस्ती लगी।
best Sharab Ki Shayari in Hindi 

Gham Iss Kadar Barhe Ke Ghabra Ke Pee Gaya,Iss Dil Ki Bebasi Pe Taras Kha Ke Pee Gaya,Thhukra Raha Tha Mujhe Badi Der Se Zamana,Main Aaj Sab Jahaan Ko Thhukra Ke Pee Gaya.

ग़म इस कदर बढ़े कि घबरा के पी गया,इस दिल की बेबसी पे तरस खा के पी गया,ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना,मैं आज सब जहान को ठुकरा के पी गया।

Tum Kya Jano Sharab Kaise Pilayi Jati Hai,Kholne Se Pehle Botal Hilayi Jati Hai,Phir Aawaj Lagayi Jaati Hai Aa Jao Tute Dil Walo,Yahan Dard-e-Dil Ki Dawa Pilayi Jati Hai.

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है,खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है,फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ टूटे दिल वालों,यहाँ दर्द-ए-दिल की दवा पिलाई जाती है।
new sharabi shayari hindi me

Kahin Saagar Labalab Hain Kahin Khaali Pyale Hain,Yeh Kaisa Daur Hai Saqi Yeh Kya Taqseem Hai Saqi.

कहीं सागर लबालब हैं कहीं खाली पियाले हैं,यह कैसा दौर है साकी यह क्या तकसीम है साकी।

Yun Bigdi Baheki Baaton Ka,Koi Shauq Nahi Hai Mujhko,Woh Purani Sharab Ke Jaisi HaiAsar Sar Se Utarta Hi Nahi.

यूँ बिगड़ी बहकी बातों काकोई शौक़ नही है मुझको,वो पुरानी शराब के जैसी हैअसर सर से उतरता ही नहीं।
fresh sharabi sad shayari in hindi

Thodi Si Pee Sharaab Thodi See Uchhal Di,Kuchh Iss Tarah Se Humne Jawaani Nikaal Di.

थोड़ी सी पी शराब थोड़ी सी उछाल दी,कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी।

Tum Aaj Saqi Bane Ho Toh Shahar Pyasa Hai,Humare Daur Mein Khaali Koi Gilaas Na Tha.

तुम आज साक़ी बने हो तो शहर प्यासा है,हमारे दौर में ख़ाली कोई गिलास न था।
sharab sher o shayari in hindi

Dekha Kiye Woh Mast Nigahon Se Baar Baar,Jab Tak Sharab Aayi Kayi Daur Chal Gaye.

देखा किये वह मस्त निगाहों से बार-बार,जब तक शराब आई कई दौर चल गये।

Tumhari Berukhi Ne Laaj Rakhli BadaKhane Ki,Tum Aankho Se Pila Dete To Paimane Kahan Jate.

तुम्हारी बेरूखी ने लाज रख ली बादाखाने की,तुम आंखों से पिला देते तो पैमाने कहाँ जाते।
sharab par shayari in hindi

Dikha Ke Madbhari Aakhien Kaha Ye Saqi Ne,Haraam Kehte Hain Jisko Yeh Woh Sharab Nahi.

दिखा के मदभरी आंखें कहा ये साकी ने,हराम कहते हैं जिसको यह वो शराब नहीं।

Mukhatib Hain Saqi Ki Mkhmoor Najrein,Mere Jurf Ka Imtihaan Ho Raha Hai.

मुखातिब हैं साकी की मख्मूर नजरें,मेरे जर्फ का इम्तिहाँ हो रहा है।
shayari on sharab in hindi

Saqi Tere Nigaah Ki Kya Syahkarian Hain,Maykhwar Hosh Mein Hai, Jahid Behak Raha Hai.

साकी तेरे निगाह की क्या सियाहकारियाँ हैं,मैख्वार होश में हैं, जाहिद बहक रहा है।

Asar Na Poochhiye Saaki Ki Mast Aankho Ka,Yeh Dekhiye Ki Koyi HoshMand Baaki Hai.

असर न पूछिए साकी की मस्त आंखों का,यह देखिये कि कोई होशमंद बाकी है।
Ghalib shayari on sharab hindi

Chhalakta Bhi Rahe Humdum Rahe Labrej Bhi Saaqi,Teri Aankon Ke Sadke Humne Woh Bhi Jaam Dekhe Hain.

छलकता भी रहे हमदम, रहे लबरेज भी साकी,तेरी आंखों के सद्के हमने वो भी जाम देखे हैं।

Nigah-e-Mast Se Mujhko Pilaye Ja Saaqi,Haseen Nigaah Bhi Jaam-e-Sharab Hoti Hai.

निगाहे-मस्त से मुझको पिलाये जा साकी,हसीं निगाह भी जामे-शराब होती है।
sharabi sad shayari hindi

Aaj Pee Lene De Jee Lene De Mujhko Saqi,Kal Meri Raat Raat Khuda Jaane Kahan Gujregi.

आज पी लेने दे जी लेने दे मुझ को साक़ी,कल मेरी रात ख़ुदा जाने कहाँ गुज़रेगी।

Mast Karna Hai Toh Khum Munh Se Laga De Saqi,Tu Pilayega Kahan Tak Mujhe Paimaane Se.

मस्त करना है तो खुम से मुंह लगा दे साकी,तू पिलायेगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।
shayari on sharab by ghalib in hindi

Rooh Kis Mast Ki Pyasi Gayi MayKhane Se,May Udi Jaati Hai Saqi Tere Paimaane Se.
रूह किस मस्त की प्यासी गई मयख़ाने से,मय उड़ी जाती है साक़ी तेरे पैमाने से।

Aye Dil Tujhe Zeba Nahi Saqi Ki KhushaMad,Maikhana Khicha Aayega Kismat Mein Agar Hai.

ऐ दिल तुझे जेबा नहीं साकी की खुशामद,मैखाना खिंचा आयेगा किस्मत में अगर है।
mirza ghalib sharab shayari hindi

Aankho Ko Bachaye The Hum Ashq-e-Shikayat Se,Saqi Ke Tabassum Ne Chhlka Diya Paimana.

आंखों को बचाये थे हम अश्के-शिकायत से,साकी के तबस्सुम ने छलका दिया पैमाना।

Saqi Ki Nigaahon Mein To Mulazim Na Banuga,Tutenge Toh Tute Mere Tauba Ke Iraade.

साकी की निगाहों में तो मुलाजिम न बनूंगा,टूटेंगे तो टूटें मेरे तौबा के इरादे।
new sharab shayari 2 lines hindi

Maiqade Laakh Band Karein Zamane Wale,Shahar Mein Kam Nahi Aankho Se Pilane Wale.

मैकदे लाख बंद करें जमाने वाले,शहर में कम नहीं आंखों से पिलाने वाले।

Apni Nashili Nigahon Ko,Jara Jhuka Dijiye JanaabMere Majhab Me Nasha Haraam Hai.

अपनी नशीली निगाहों को,जरा झुका दीजिए जनाबमेरे मजहब में नशा हराम है।
sharab shayari two liners hindi

Nasha Pila Ke Girana ToSabko Aata Hai,Mazaa To Tab Hai KiGirton Ko Thaam Le Saaqi.
नशा पिला के गिराना तोसब को आता है,मज़ा तो तब है किगिरतों को थाम ले साक़ी।

Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Dosto,Baadalo Ka Rang Dekh Niyat Badal Gayi.

पीने से कर चुका था मैं तौबा दोस्तों,बादलो का रंग देख नीयत बदल गई।
2 line shayari on sharab new

Maykhane Ki Izzat Ka Sawal Tha Huzoor,Samne Se Gujre Toh Thoda Sa Muskura Diye.

मयखाने की इज्ज़त का सवाल था हुज़ूर,सामने से गुजरे तो, थोड़ा सा लड़खड़ा दिए।

Tanhayion Ke Aalam Ki Na Baat Karo Karo Dost,Varna Ban Uthhega Jaam Aur BadNaam Sharab Hogi.

तन्हाइओं के आलम की ना बात करो दोस्त,वर्ना बन उठेगा जाम और बदनाम शराब होगी
sharab shayari 2 lines urdu

Qibla-o-Kaba Ye Toh Peene-Pilane Ke Hain Din,Aap Kya Halk Ke Darbaan Bane Baithhe Hain.

क़िबला-ओ-काबा ये तो पीने पिलाने के हैं दिन,आप क्या हल्क़ के दरबान बने बैठे हैं।

Tere Rutbe Mein Shamil Nahi Saqi Ki Khushamad,Maikhana Khicha Aayega Kismat Mein Agar Hai.

तेरे रुतबे में शामिल नहीं साक़ी की ख़ुशामद,मैखाना खिंचा आयेगा, किस्मत में अगर है।
daru ki shayari hindi

Pee Liya Karte Hain Jeene Ki Tamanna Mein Kabhi,DagMagana Bhi Jaroori Hai Sambhalne Ke Liye.

पी लिया करते हैं जीने की तमन्ना में कभी,डगमगाना भी जरूरी है संभलने के लिए।

Chheen Kar Hatho Se JaamWo Is Andaaz Se Boli,Kami Kya Hai In Hotho MeinJo Tum Sharaab Peete Ho.

छीनकर हाथों से जामवो इस अंदाज़ से बोली,कमी क्या है इन होठों मेंजो तुम शराब पीते हो।
daru wali shayari hindi

Wo Pila Kar Jaam Labon SeApni Mohabbat Ka,Ab Kahte Hain Nashe Ki AadatAchhi Nahi Hoti.

वो पिला कर जाम लबों सेअपनी मोहब्बत का,अब कहते हैं नशे की आदतअच्छी नहीं होती।
daru shayari image

Teri Nigaah Ne Kya Keh Diya Khuda Jane,Ulat Kar Rakh Diye BadahKashon Ne Paimane.

तेरी निगाह ने क्या कह दिया खुदा जाने,उलट कर रख दिये बादाकाशों ने पैमाने।

Nasha Tab Doguna Hota Hai Janaab...Jab Jaam Bhi Chhalake Aur Aankh Bhi Chhalake.

नशा तब दोगुना होता है जनाब...जब जाम भी छलके और आँख भी छलके।
funny daru shayari hindi

Yeh Saqi Ne Sagar Mein Kya Cheej De Di,Ke Tauba Huyi Paani Paani Humari.

यह साकी ने सागर में क्या चीज दे दी,कि तौबा हुई पानी-पानी हमारी।

Mai Chalak Jaye Toh KamJarf Hain Peene Wale,Jaam Khali Ho Toh Saqi Teri Ruswayi Hai.

मय छलक जाए तो कमजर्फ हैं पीने वाले,जाम खाली हो तो साकी तेरी रूसवाई है।
daru sms shayari in hindi

Main Samjhta Hun Teri IshwaGiri Ko Saqi,Kaam Karti Hai Najar Naam Paimaane Ka.

मैं समझता हूँ तेरी इशवागिरी को साकी,काम करती है नजर नाम पैमाने का है।
daru party shayari in hindi

Alag Baithe The Ke Aankh Saqi Ki Padi Mujh Par,Agar Tishngi Kamil To Paimane Bhi Aayenge.

अलग बैठे थे कि आँख साकी की पड़ी मुझ पर,अगर है तिश्नगी कामिल तो पैमाने भी आयेंगे।
daru sad shayari in hindi

Masti Nigah-e-Naaj Ki Kaif-e-Shabab Mein,Jaise Koyi Sharab Mila De Sharab Mein.

मस्ती निगाहे-नाज की कैफे-शबाब में,जैसे कोई शराब मिला दे शराब में।
daru pe shayari in hindi

Peeta Hun Jitni Utni Hi Barhti Hai Tishngi,Saqi Ne Jaise Pyaas Mila Di Ho Sharab Mein.

पीता हूँ जितनी उतनी ही बढ़ती है तिश्नगी,साक़ी ने जैसे प्यास मिला दी हो शराब में।
daru peene ki shayari

Hosh-o-Hawaas Mein Bahko Toh Koyi Baat Bane,Yoon Nashe Mein Ludakna Toh Yaar Purana Hua.

होशो हवास में बहको तो कोई बात बने,यूं नशे में लुढ़कना तो यार पुराना हुआ।
daru ki shayari hindi

Kuchh Bhi Na Bacha Kahne Ko Har Baat Ho Gayi,Aao Kahin Sharab Piyein Raat Ho Gayi.

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई।
nasha shayari in hindi

Zahid Ne Maikashi Ki Ijazat Toh Dee Magar,Rakhi Hai Itni Shart Khuda Se Chhupa Ke Pee.

जाहिद ने मैकशी की इजाज़त तो दी मगर,रखी है इतनी शर्त खुदा से छुपा के पी।
shayari on nasha mukti in hindi

Kar Do Tabdeel Adalaton Ko MayKhano Mein,Suna Hai Nashe Mein Koi Jhoothh Nahi Bolta.

कर दो तब्दील अदालतों को मयखानों में,सुना है नशे में कोई झूठ नहीं बोलता।
nasha mukti shayari in hindi

Saqi Mere Khuloosh Ki Shiddat Toh Dekhna,Fir Aa Gaya Hoon Gardish-e-Dauraan Ko TaalKar.

साक़ी मेरे खुलूश की शिद्दत तो देखना,फिर आ गया हूँ गर्दिशे-दौरां को टालकर।
pyar ka nasha shayari in hindi

Rindane-Jahan Se Yeh NafratAye Hazrat-e-Vaiz Kya Kehna,Allah Ke Aage Bas Na ChalaBando Se Bagawat Kar Baithe.

रिन्दाने-जहां से ये नफरतऐ हजरते-वाइज क्या कहना,अल्लाह के आगे बस न चलाबंदों से बगावत कर बैठे।
nasha mukti par shayari in hindi

Raat Hum Piye Huye The Magar,Aap Ki Aankhein Bhi Sharabi Thi,Phir Humare Kharab Hone MeinAap Hi Kahiye Kya Kharabi Thi.

रात हम पिये हुए थे मगर,आप की आंखे भी शराबी थी,फिर हमारे खराब होने में,आप ही कहिए क्या खराबी थी।
sharabi shayari 140

Meri Tabahi Ka iljaam Ab Sharab Par Hai,Karta Bhi Kya Aur Tum Par Jo Aa Rahi Thi Baat.

मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है,करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात।
sharabi shayari with images

Nateeja Besabab Mehfil Se Uthhwane Ka Kya Hoga,Na Honge Hum Toh Saqi Tere Maikhane Ka Kya Hoga.

नतीजा बेसबब महफिल से उठवाने का क्या होगा,न होंगे हम तो साकी तेरे मैखाने का क्या होगा।
sharabi shayari 2 lines

Game-Duniya Mein Game-Yaar Bhi Shamil Kar Lo,Nashaa Barhta Hai Sharabein Jo Sharabon Se Mile.

गमे-दुनिया में गमे-यार भी शामिल कर लो,नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें।
dard bhari sharabi shayari in hindi font

Hat Gayi Najron Se Najrein Maiqada Sa Lut Gaya,Mil Gayi Najron Se Najrein Maikashi Hone Lagi.

हट गई नजरों से नजरें मैकदा सा लुट गया,मिल गई नजरों से नजरें मैकशी होने लगी।
sharabi shayari image170

Tohfe Mein Mat Gulab Lekar Aana,Meri Kabr Par Mat Chirag Lekar Aana,Bahut Pyasa Hun Barson Se Main,Jab Bhi Aana Sharab Lekar Aana.

तोहफे में मत गुलाब लेकर आना,मेरी क़ब्र पर मत चिराग लेकर आना,बहुत प्यासा हूँ बरसों से मैं,जब भी आना शराब लेकर आना।
sharabi shayari wallpaper download

Main Tod Leta Agar Woh Gulab Hoti,Main Jawab Banta Agar Woh Sawal Hoti,Sab Jante Hain Main Nasha Nahi Karta,Phir Bhi Pee Leta Agar Woh Sharab Hoti.

मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती,मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती,सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता,फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती।
sharabi shayari bewafa

Lahron Pe Khejta Hua Lahra Ke Pee Gaya,Saqi Ki Har Nigaah Pe Bal Kha Ke Pee Gaya,Maine Toh Chhod Di Thi Par Rone Lagi Sharab,Main Uske Aansuon Pe Taras Kha Ke Pee Gaya.

लहरों पे खेजता हुआ लहरा के पी गया,साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया।मैंने तो छोड़ दी थी पर रोने लगी शराब,मैं उसके आँसुओं पे तरस खा के पी गया।
(Abdul Hameed Adam)

Main Talkhi-e-Hayaat Se Ghabra Ke Pee Gaya,Gham Ki Siyaah Raat Se Ghabra Ke Pee Gaya,Itni Dakeek Se Koi Kaise Samajh Sake,Yazdan Ke Wakiyat Se Ghabra Ke Pee Gaya.

मैं तल्खी-ए-हयात से घबरा के पी गया,ग़म की स्याह रात से घबरा के पी गया,इतनी दकीक से कोई कैसे समझ सके,यज्दां के वाकियात से घबरा के पी गया।
(Sagar Siddiqi)

Taazji Mizaaj Mein Aur Rangat Jaise Pighla Hua Sona,Yahan Tareef Teri Nahi Saaqi, Yeh Zikr Sharab Ka Hai.

ताजगी मिज़ाज में और रंगत जैसे पिघला हुआ सोना,यहाँ तारीफ तेरी नहीं साकी, यह ज़िक्र शराब का है।

Kharida Ja Nahin Sakta Hai Saaqi Zarf Rindon Ka,Bahut Sheeshe Pighalte Hain Toh Ek Paimana Banta Hai.

खरीदा जा नहीं सकता है साक़ी ज़र्फ़ रिन्दों का,बहुत शीशे पिघलते हैं तो एक पैमाना बनता है।

Tauheen Na Karna Kabhi Kah Kar Kadwa Sharab Ko,Kisi GhamZada Se Puchho Ismein Kitni Mithaas Hai.
sharab shayari photo

तौहीन न करना कभी कह कर कड़वा शराब को,किसी ग़मजदा से पूछो इसमें कितनी मिठास है।

Tu Hosh Mein Thi Phir Bhi Humein Pehchan Na Payi,Ek Hum Hain Ke Peekar Bhi Tera Naam Lete Rahe.

तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,एक हम हैं कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे।
 Sharab Ki Shayari in Hindi, Sharabi Shayari Hindi Me, Sharab Shayari 2 Lines, Sharab Shayari 2 Lines Hindi,Daru Shayari Image, Funny Daru Shayari Hindi, Daru Shayari in Hindi, Pyar Ka Nasha Shayari in Hindi, Saqi ki sharab shayari,Bottle sharab ki shayari,Sharab Shayari in Hindi Share it With Your Friends On Whatsapp and Other Social Media.Shayari on Sharab and Khuda, Shayari on Nasha Mukti in Hindi, Sharab Shayari Two Liners, Best Sharab Shayari in Hindi Font, 2 Line Shayari on Sharab, Daru Ki Shayari, Daru Wali Shayari, Daru SMS Shayari in Hindi, Daru Party Shayari in Hind, Nasha Mukti Par Shayari in Hindi.Daru Ki Shayari in Hindi, Nasha Mukti Shayari in Hindi,Mirza Ghalib Sharab Shayari,

Post a Comment

0 Comments