Sad Shayari

Sad Shayari:-  Our life is full of emotions, sometimes we feel very sad and alone. Then the simple words can not express our emotions correctly and we take help of shayari, poetry to express our situation which is the best way. we know the value of sad shayari hindi that why ,we have a good collection of sad shayari and images of sad shayari. lovers always looking for sad shayari with love because in the relationship, everything you need to manage. Sometimes they have some
misunderstanding and they talk to each other and then they try to make understanding their partner or lover with shayari with love. To study these all situation in love we have to collect valuable sad shayari in hind and we hope you will like it and share it with your friends, boy friends, girl friends or relatives, on facebook and other social media.  www.hindishayari.guru

Sad Shayari Status
Ajab Chirag Hoon Din-Raat Jalta Rahta Hoon,
Thak Gaya Hoon Hawa Se Kaho Bujhaaye Mujhe.

अजब चिराग हूँ दिन-रात जलता रहता हूँ,
थक गया हूँ मैं हवा से कहो बुझाए मुझे।

Apni Zindagi Ajeeb Rang Mein Gujri Hai,
Raaj Kiya Dilon Pe Aur Mohabbat Ko Tarse
.
अपनी जिंदगी अजीब रंग में गुजरी है,
राज किया दिलों पे और मोहब्बत को तरसे।

Dekhi Hai Berukhi Ki Aaj Humne Intehaan,
Hum Pe Najar Padi Toh Mehfil Se Uthh Gaye.

देखी है बेरुखी की आज हम ने इन्तेहाँ,
हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए।

Ek Najar Bhi Dekhna Ganwaara Nahi Usey,
Jara Sa Bhi Ehsaas Hamaara Nahi Usey,
Wo Sahil Se Dekhte Rahe Doobna Hamara,
Hum Bhi Khuddar They Pukara Nahi Usey.

एक नजर भी देखना गंवारा नहीं उसे,
जरा सा भी एहसास हमारा नहीं उसे,
वो साहिल से देखते रहे डूबना हमारा,
हम भी खुद्दार थे पुकारा नहीं उसे।

Nateeja Ek Hi Nikla,
Ke Thi Kismat Mein Nakami,
Kabhi Kuchh Kah Ke Pachhtaye
Kabhi Chup Rah Ke Pachhtaye.

नतीजा एक ही निकला,
कि थी किस्मत में नाकामी,
कभी कुछ कहके पछताए,
कभी चुप रहके पछताए।

Sirf Chehre Ki Udaasi Se
Bhar Aaye Teri Aankhon Mein Aansu,
Mere Dil Ka Kya Aalam Hai
Yeh Toh Tu Abhi Jaanata Nahi.

सिर्फ चेहरे की उदासी से
भर आये तेरी आँखों में आँसू,
मेरे दिल का क्या आलम है
ये तो तू अभी जानता नहीं।

Woh Jo Kehte The Hajaro
Milte Hain Roj Tere Jaise,
Unke Hathon Pe Mehndi
Lagi Hai Aaj Barson Ke Baad.

वो जो कहते थे हजारों
मिलते हैं रोज तेरे जैसे,
उनके हाथों पे मेहँदी
लगी है आज बरसों के बाद।

Modabbat Ki Aajmaish De-De Kar
Hum Thak Gaye Aye Khuda,
Muqaddar Mein Koi Aisa Bhi Likh De
Jo Maut Tak Wafa Kare.

मोहब्बत की आजमाइश दे-दे कर
हम थक गए ऐ खुदा,
मुकद्दर में कोई ऐसा भी लिख दे
जो मौत तक वफ़ा करे।

Ab Aansuon Ko Aankhon Mein Sajana Hoga,
Chirag Bujh Gaye Humein Khud Ko Jalana Hoga,
Na Samajhna Ke Tumse Bichhad Ke Khush Hain Hum,
Humein Logon Ki Khatir Muskurana Hoga.

अब आँसुओं को आँखों में सजाना होगा,
चिराग बुझ गए हमें खुद को जलाना होगा,
न समझना कि तुमसे बिछड़ के खुश हैं हम,
हमें अब लोगों की खातिर मुस्कुराना होगा।

Khud Ko Kuchh Iss Kadar Tabaah Kiya,
Ishq Kiya Ek KhoobSurat Gunaah Kiya,
Jab Mohabbat Mein Na The Tab Khush The Hum,
Dil Ka Sauda Humne BeWajah Kiya.

खुद को कुछ इस कदर तबाह किया,
इश्क़ किया एक खूबसूरत गुनाह किया,
जब मोहब्बत में न थे तब खुश थे हम,
दिल का सौदा हमने बेवजह किया।

Dil Se Mita Na Paoge Maine Kaha Toh Tha,
Tum Kisi Aur Ke Ho Ke Bhi Mere Hi Rahe.

दिल से मिटा न पाओगे मैंने कहा तो था,
तुम किसी और के होके भी मेरे ही रहे।

Jise Khud Se Hi Nahin Fursatein,
Jise Khayal Apne Kamaal Ka,
Usey Kya Khabar Mere Shauq Ki,
Usey Kya Pata Mere Haal Ka.

जिसे खुद से ही नहीं फुरसतें,
जिसे खयाल अपने कमाल का,
उसे क्या खबर मेरे शौक़ की,
उसे क्या पता मेरे हाल का।

Kuchh Unki Wafaaon Ne Loota,
Kuchh Unki Inayat Maar Gayi,
Hum Raaz-e-Mohabbat Kah Na Sake,
Chup Rahne Ki Aadat Maar Gayi.

कुछ उनकी वफ़ाओं ने लूटा,
कुछ उनकी इनायत मार गई,
हम राज़-ए-मोहब्बत कह न सके,
चुप रहने की आदत मार गई।

Main Tere Pyar Se Ghar Apna Basaaun Kaise,
Main Teri Maang Sitaron Se Sajaaun Kaise,
Meri Kismat Mein Nahin Pyar Ki Khushboo Shayad,
Mere Haathon Ki Lakeeron Mein Nahin Tu Shayad.

मैं तेरे प्यार से घर अपना बसाऊं कैसे,
मैं तेरी मांग सितारों से सजाऊँ कैसे,
मेरी किस्मत में नहीं प्यार की खुश्बू शायद,
मेरे हाथों की लकीरों में नहीं तू शायद।

Muddat Se Jiske Waste Dil BeQarar Tha,
Woh Laut Ke Na Aaya Jiska Intezar Tha,
Manzil Kareeb Aayi Toh Woh Dur Ho Gaya,
Itna Toh Bata Jata Ke Ye Kaisa Pyaar Tha.

मुद्दत से जिसके वास्ते दिल बेकरार था,
वो लौट के ना आया जिसका इंतजार था,
मंजिल करीब आई तो वो दूर हो गया,
इतना तो बता जाता कि ये कैसा प्यार था।

Nafratein Lakh Mili Par Mohabbat Na Mili,
Zindagi Beet Gayi Magar Rahat Na Mili,
Teri Mehfil Mein Har Ek Ko Hansta Dekha,
Ek Main Tha Jise Hasne Ki Ijazat Na Mili.

नफरतें लाख मिलीं पर मोहब्बत न मिली,
ज़िन्दगी बीत गयी मगर राहत न मिली,
तेरी महफ़िल में हर एक को हँसता देखा,
एक मैं था जिसे हँसने की इजाज़त न मिली।

Barson Gujar Gaye Humne RoKar Nahi Dekha,
Aankhon Mein Neend Thi Magar SoKar Nahi Dekha,
Woh Kya Jaane Dard-e-Mohabbat Kya Hai,
Jisne Kabhi Kisi Ka Hokar Nahi Dekha.

बरसों गुजर गए हमने रोकर नहीं देखा,
आँखों में नींद थी मगर सोकर नहीं देखा,
वो क्या जाने दर्द-ए-मोहब्बत क्या है,
जिसने कभी किसी का होकर नहीं देखा।
Sad Shayari in Hindi for Love

Na Kisi Ke Dil Ki Hoon Aarzoo,
Na Kisi Najar Ki Hoon Justjoo,
Main Woh Phool Hoon Jo Udaas Hai,
Na Bahaar Aaye Toh Kya Karoon.

न किसी के दिल की हूँ आरजू,
न किसी नज़र की हूँ जुस्तजू,
मैं वो फूल हूँ जो उदास है,
ना बहार आए तो क्या करूँ।

Chalo Ab Jaane Bhi Do Kya Karoge Dastaan Sunkar,
Khamoshi Tum Samjhoge Nahi Aur Bayaan Humse Hoga Nahi.

चलो अब जाने भी दो क्या करोगे दास्ताँ सुनकर,
ख़ामोशी तुम समझोगे नहीं और बयाँ हमसे होगा नहीं।

Udaas Dil Hai Magar Milta Hoon Har Ek Se HansKar,
Yahi Ek Fann Seekha Hai Bahut Kuchh Kho Dene Ke Baad.

उदास दिल है मगर मिलता हूँ हर एक से हँस कर,
यही एक फन सीखा है बहुत कुछ खो देने के बाद।

Mijaaz Ko Bas Talkhiyan Hi Raas Aayin,
Humne Kayi Baar Muskura Ke Dekh Liya.

मिजाज को बस तल्खियाँ ही रास आईं,
हम ने कई बार मुस्कुरा कर देख लिया।

Meri Koshish Kabhi Kamyaab Na Ho Saki,
Na Tujhe Pane Kii Na Tujhe Bhulane Ki.

मेरी कोशिश कभी कामयाब ना हो सकी,
न तुझे पाने की न तुझे भुलाने की।

Apni Hi Mohabbat Se Mukarna Pada Mujhe,
Jab Dekh Use Rota Kisi Aur Ke Liye.

अपनी ही मोहब्बत से मुकरना पड़ा मुझे,
जब देखा उसे रोता किसी और के लिए।

Mere Na Ho Sako Toh Kuchh Aisa Kar Do,
Hum Jaise The Humein Phir Waisa Kar Do.

मेरे न हो सको तो कुछ ऐसा कर दो,
हम जैसे थे हमें फिर वैसा कर दो।

Na Chhed Kissa Woh Mohabbat Ka Badi Lambi Kahani Hai,
Main Zindagi Se Nahi Haara Kisi Ki Meharbani Hai.

ना छेड़ किस्सा वो मोहब्बत का बड़ी लम्बी कहानी है,
मैं ज़िंदगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है।

Meri Jagah Koi Aur Ho Toh Cheekh Uthhe,
Main Apne Aap Se Itne Sawaal Karta Hoon.

मेरी जगह कोई और हो तो चीख उठे,
मैं अपने आप से इतने सवाल करता हूँ।

Yakeen Tha Ke Tum Bhool Jaaoge Mujhko,
Khushi Hai Ke Tum Ummeed Par Khare Utre.

यकीन था कि तुम भूल जाओगे मुझको,
खुशी है कि तुम उम्मीद पर खरे उतरे।

Sach Bol Kar Bhi Dekh Liya Unke Saamne,
Lekin Unhein Pasand Sadaqat Na Thi Meri.

सच बोलकर भी देख लिया उनके सामने,
लेकिन उन्हें पसंद सदाक़त न थी मेरी।

Bina Mere Reh Hi Jayegi Koi Na Koi Kami,
Tum Zindgi Ko Jitni Marji Sanwaar Lena.

बिना मेरे रह ही जाएगी कोई न कोई कमी,
तुम जिंदगी को जितनी मर्जी सँवार लेना।

Ek Sawaal Puchhti Hai Meri Rooh Aksar,
Maine Dil Lagaya Hai Ya Zindgi Daav Par.

एक सवाल पूछती है मेरी रूह अक्सर,
मैंने दिल लगाया है या ज़िंदगी दाँव पर।

Tera Saath Chhoota Hai Sambhalne Mein Waqt Toh Lagega,
Har Cheej Ishq Toh Nahi Jo Ek Pal Mein Ho Jaye.

तेरा साथ छूटा है सँभलने में वक्त तो लगेगा,
हर चीज़ इश्क़ तो नहीं जो एक पल में हो जाये।

Ab Soch Rahe Hain Seekh Hi Lein Hum Bhi Berukhi Karna,
Mohabbat Dete Dete Sabko Humne Apni Hi Kadar Kho Di.

अब सोच रहे हैं सीख ही लें हम भी बेरुखी करना,
मोहब्बत देते देते सबको हमने अपनी ही कदर खो दी।

Gulon Ne Saaye Mein Aksar Tadpa Hun,
Qaraar Kaanto Pe Kuchh Aisa Paa Liya Maine.

गुलों के साये में अक्सर तड़पा हूँ,
करार कांटों पे कुछ ऐसा पा लिया मैंने।

Tamaam Umr Hum Wafa Ke Gunahgaar Rahe,
Yeh Aur Baat Hai Ke Hum Aadmi Toh Achhe The.

तमाम उम्र हम वफा के गुनहगार रहे,
यह और बात है कि हम आदमी तो अच्छे थे।

Sapno Se Dil Lagane Ki Aadat Nahi Rahi,
Har Waqt Muskurane Ki Aadat Nahi Rahi,
Ye Soch Ke Ki Koi Manaane Nahi Aayega.
Hum Ko Rooth Jaane Ki Aadat Nahi Rahi.

सपनों से दिल लगाने की आदत नहीं रही,
हर वक्त मुस्कुराने की आदत नहीं रही,
ये सोच के कि कोई मनाने नहीं आएगा,
हम को रूठ जाने की आदत नहीं रही।

Hajaaro Jawab Se Achchhi Meri Khamoshi,
Na Jane Kitne Sawalon Ki Aabroo Rakh Li.

हजारों जवाब से अच्छी मेरी ख़ामोशी,
न जाने कितने सवालों की आबरू रख ली।

Mumkina Faislon Mein Ek Hijr Ka Faisla Bhi Tha,
Hum Ne Toh Ek Baat Ki Us Ne Kamaal Kar Diya.

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया।

Hosho-Hawaas Aur Taabo-Tawaan Daag Ja Chuke,
Ab Hum Bhi Jaane Wale Hain Saamaan Toh Gaya.

होशो-हवास और ताबो-तवाँ दाग़ जा चुके,
अब हम भी जाने वाले हैं सामान तो गया।

Tamaam Umr Hum Wafa Ke Gunahgaar Rahe,
Yeh Aur Baat Hai Ke Hum Aadmi Toh Achhe The.

तमाम उम्र हम वफा के गुनहगार रहे,
यह और बात है कि हम आदमी तो अच्छे थे।

Aaye Bhi Log Gaye Bhi Uthh Bhi Khade Huye,
Main Jaa Hi Dekhta Teri Mehfil Mien Rah Gaya.

आये भी लोग, गये भी, उठ भी खड़े हुए,
मैं जा ही देखता तेरी महफिल में रह गया।

Haath Mere Bhool Baithe Dastakein Dene Ka Fan,
Band Mujh Par Jab Se Uske Ghar Ka Darwaja Hua.

हाथ मेरे भूल बैठे दस्तकें देने का फ़न,
बंद मुझ पर जब से उस के घर का दरवाज़ा हुआ।

Bas Yeh Hua Ke Usne Takalluf Se Baat Ki,
Aur Hum Ne Rote Rote Dupatte Bhigo Liye.

बस ये हुआ कि उस ने तकल्लुफ़ से बात की,
और हम ने रोते रोते दुपट्टे भिगो लिए।

Bichhad Kar Fir Milenge Yakeen Kitna Tha,
Beshak Ye Khwab Tha Magar Haseen Kitna Tha.

बिछड़कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था,
बेशक ये ख्वाब था मगर हसीन कितना था।

Khud Aag De Ke Apne Nasheman Ko Aap Hi,
Bijli Se Inteqaam Liya Hai Kabhi-Kabhi.

खुद आग दे के अपने नशेमन को आप ही,
बिजली से इन्तेकाम लिया है कभी-कभी।

Patthar Samajh Kar Paanv Se Thhokar Laga Di,
Afsos Teri Aankh Ne Parkha Nahi Mujhe,
Kya-Kya Umeedein Bandh Kar Aaya Tha Samne,
Usne Toh Aankh Bhar Ke Bhi Dekha Nahi Mujhe.

पत्थर समझ कर पाँव से ठोकर लगा दी,
अफसोस तेरी आँख ने परखा नहीं मुझे,
क्या क्या उमीदें बांध कर आया था सामने,
उसने तो आँख भर के भी देखा नहीं मुझे।

Aisa Lagta Hai Ke Woh Bhool Gaya Hai Humko,
Ab Kabhi Khidki Ka Parda Nahi Badla Jata.

ऐसा लगता है कि वो भूल गया है हमको,
अब कभी खिड़की का पर्दा नहीं बदला जाता।

Jiske Naseeb Mein Hon Zamane Ki Thhokarein,
Uss BadNaseeb Se Na Sahaaron Ki Baat Kar.

जिसके नसीब मे हों ज़माने की ठोकरें,
उस बदनसीब से ना सहारों की बात कर।

Tu Meri Barbadiyon Ke Jashn Mein Shamil Raha,
Yeh Tasawwur Hi Bahut Aaraam Deta Hai Mujhe.

तू मेरी बरबादियों के जश्न में शामिल रहा,
ये तसव्वुर ही बहुत आराम देता है मुझे।

Aisa Nahi Hai Ki Ab Teri Justzu Nahi Rahi,
Bas Toot Kar Bikharne Ki Aarzoo Nahi Rahi.

ऐसा नहीं है कि अब तेरी जुस्तजू नहीं रही,
बस टूट कर बिखरने की आरज़ू नहीं रही।

Khud Ko Likhte Huye Har Baar Likha Hai Tumko,
Is Se Zyada Koyi Zindgi Ko Kya Likhta?

खुद को लिखते हुए हर बार लिखा है तुमको,
इससे ज्यादा कोई जिंदगी को क्या लिखता?
New Sad Shayari
Roj Khwabon Mein Jeete Hain Woh Zindagi,
Jo Tere Saath Hakeeqat Mein Sochi Thi Kabhi.

रोज़ ख्वाबों में जीते हैं वो ज़िन्दगी,
जो तेरे साथ हक़ीक़त में सोची थी कभी।

Yeh Toh Na Kah Ke Kismat Ki Baat Hai,
Meri Barbadiyon Mein Tera Bhi Hath Hai.

ये तो न कह कि किस्मत की बात है,
मेरी बरबादियों में तेरा भी हाथ है।

Kuchh Kati Himmat-e-Sawal Mein Umr,
Kuchh Umeed-e-Jawab Mein Gujri.

कुछ कटी हिम्मत-ए-सवाल में उम्र,
कुछ उम्मीद-ए-जवाब में गुजरी।

Suni Ek Bhi Baat Tumne Na Meri,
Suni Maine Saare Zamane Ki Baatein.

सुनी एक भी बात तुमने न मेरी,
सुनी मैंने सारे ज़माने की बातें।

Mujhse Chheeno Na Dil Ki Veerani,
Yeh Amaanat Kisi Ajnabi Ki Hai.

मुझसे छीनो न दिल की वीरानी,
यह अमानत किसी अजनबी की है।

Le Chala Jaan Meri Ruthh Ke Jana Tera,
Aise Aane Se Toh Behtar Tha Na Aana Tera.

ले चला जान मेरी रूठ के जाना तेरा,
ऐसे आने से तो बेहतर था न आना तेरा।

Tum Ko Fursat Jo Kabhi Mil Jaye,
Toh Khud Se Mujhko Nijaat De Dena.

तुम को फुर्सत जो कभी मिल जाए,
तो खुद से मुझको निजात दे देना।


Bhool Ja Ab Tu Mujhe Aasaan Hai Tere Liye,
Bhulna Tujhko Nahi Aasaan Magar Mere Liye.

भूल जा अब तू मुझे आसान है तेरे लिए,
भूलना तुझको नहीं आसां मगर मेरे लिए।

Fursat Agar Mile Toh Mujhe Parhna Jaroor,
Nakaam Zindagi Ki Muqammal Kitab Hoon Main.

फुरसत अगर मिले तो मुझे पढ़ना जरूर,
नाकाम ज़िंदगी की मुकम्मल किताब हूँ मैं।


Bula Raha Hai Kaun MujhKo Uss Taraf,
Mere Liye Bhi Kya Koi Udaas BeKaraar Hai.

बुला रहा है कौन मुझको उस तरफ,
मेरे लिए भी क्या कोई उदास बेक़रार है।

Uski Baahon Mein Sone Ka
Abhi Tak Shauk Hai Mujhko,
Mohabbat Mein Ujad Kar Bhi
Meri Aadat Nahi Badli.

उसकी बाहों में सोने का
अभी तक शौक है मुझको,
मोहब्बत में उजड़ कर भी
मेरी आदत नहीं बदली।
Sad Shayari in Hindi for Girlfriend

Haalaat Ne Tod Diya Humein

Kachche Dhaage Ki Tarah,
Varna Humare Vaade Bhi
Kabhi Janjeer Hua Karte The.

हालात ने तोड़ दिया हमें
कच्चे धागे की तरह,
वरना हमारे वादे भी कभी
जंजीर हुआ करते थे।

Dhuaan-Dhuaan Jala Tha Dil
Dheeme Dheeme Gubaar Uthha,
Raakh Ke Uss Dhher Mein
Bikhra Hua Ek Khwaab Mila.

धुआँ धुआँ जला था दिल
धीमे धीमे गुबार उठा,
राख के उस ढेर में
बिखरा हुआ एक ख्वाब मिला।

Ek Najar Dekh Ke
Sau Nuks Nikale Mujh Mein,
Phir Bhi Main Khush Hoon
Mujhe Gaur Se Dekha Tu Ne.

​एक नजर देख के
सौ नुक्स निकाले मुझमें,
फिर भी मैं खुश हूँ
मुझे गौर से देखा तूने।

Tujhe Dushmano Ki Khabar Na Thi
Mujhe Doston Ka Pata Nahi,
Teri Daastan Koyi Aur Thi
Mera Wakiya Koyi Aur Hai.

तुझे दुश्मनों की खबर न थी
मुझे दोस्तों का पता नहीं,
तेरी दास्ताँ कोई और थी
मेरा वाकिया कोई और है।

Bedili Kya Yunhi Din Gujar Jayenge,
Sirf Zinda Rahe Hum Toh Mar Jayenge.

बेदिली क्या यूँ ही दिल गुजर जायेंगे,
सिर्फ जिंदा रहे हम तो मर जायेंगे।

Ye Alag Baat Hai Ke Teri Suni Gayi,
Varna Khuda Toh Mera Bhi Wahi Tha.

ये अलग बात है कि तेरी सुनी गयी,
वरना खुदा तो मेरा भी वही था।

Khate Rahe Fareb Sambhalte Rahe Kadam,
Chalte Rahe Junoon Ka Sahara Liye Huye.

खाते रहे फरेब संभलते रहे कदम,
चलते रहे जुनूं का सहारा लिये हुए।

Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai Zamana,
Kya Kare Jiski Koi Ummid Nahi Hai.

कहते हैं उम्मीद पे जीता है जमाना,
क्या करे जिसकी कोई उम्मीद नहीं है।

Roya Hun Toh Apne Doston Mein,
Par Tujhse Toh Hans Ke Hi Mila Hun.

रोया हूँ तो अपने दोस्तों में,
पर तुझ से तो हँस के ही मिला हूँ।

Huyi Jard Phoolon Ki Bastiya,
Magar Usmein Teri Khata Kahan.

हुयी जर्द फूलों की बस्तियां,
मगर उसमें तेरी खता कहाँ।

Agar Main Bhi Mijaaj Se Patthar Hota,
Toh Khuda Hota Ya Tera Dil Hota.

अगर मैं भी मिजाज़ से पत्थर होता,
तो खुदा होता या तेरा दिल होता।

Do Kash Mohabbat Ke Kya Liye,
Zindagi Dhuaan-Dhuaan Ho Gayi.

दो कश मोहब्बत के क्या लिये,
जिंदगी ही धुआँ-धुआँ हो गई।


Ajeeb Haal Hai
Is Adhuri Mohabbat Mein Raato Ka,
Ujala Ho Jata Hai Lekin
Aankhon Se Andhera Nahi Jata.

अजीब हाल है
इस अधूरी मोहब्बत में रातों का,
उजाला हो जाता है लेकिन
आँखों से अँधेरा नहीं जाता।

Bas Yeh Hua Ke Usne Takalluf Se Baat Ki,
Aur Hum Ne Rote Rote Dupatte Bhigo Liye.

बस ये हुआ कि उस ने तकल्लुफ़ से बात की,
और हम ने रोते रोते दुपट्टे भिगो लिए।

Ja Kabhi Fursat Mile Mere Dil Ka Bojh Utaar Do,
Main Bahut Dino Se Udaas Hoon Mujhe Koi Shaam Udhhar Do.

जब कभी फुर्सत मिले मेरे दिल का बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो।

Khamoshiyan Wahi Rahi Ta-Umra Darmiyaan,
Bas Waqt Ke Sitam Aur Haseen Hote Gaye.

खामोशियाँ वही रही ता-उम्र दरमियाँ,
बस वक़्त के सितम और हसीन होते गए।

Chand Kaliyan Nishaat Ki Chunkar,
Muddaton Mayoos Rehta Hun,
Tera Milna Khushi Ki Baat Sahi,
Tujhse MilKar Udaas Rehta Hun.

चंद कलियाँ निशात की चुनकर,
मुद्दतों मायूस रहता हूँ,
तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही,
तुझसे मिलकर उदास रहता हूँ।

Sitam Ko Hum Karam Samjhe,
Jafa Ko Hum Wafa Samjhe,
Jo Iss Par Bhi Na Samjhe Wo,
Toh Us Butt Ko Khuda Samjhe.

सितम को हम करम समझे,
जफा को हम वफा समझे,
जो इस पर भी न समझे वह
तो उस बुत को खुदा समझे।

Kuchh Tabiyat Hi Mili Thi Aisi,
Chain Se Jeene Ki Surat Nahi Huyi,
Jisko Chaaha Use Apna Na Sake,
Jo Mila Uss Se Mohabbat Na Huyi.

कुछ तबीयत ही मिली थी ऐसी,
चैन से जीने की सूरत नहीं हुई,
जिसको चाहा उसे अपना न सके,
जो मिला उससे मुहब्बत न हुई।

Muddatein Beet Gayin Khwaab Suhana Dekhe,
Jaagta Rahta Hai Har Neend Mein Bistar Mera.

मुद्दतें बीत गई ख्वाब सुहाना देखे,
जागता रहता है हर नींद में बिस्तर मेरा।

Hum Par Jo Gujri Hai Tum Kya Sun Paaoge,
Nazuk Sa Dil Rakhte Ho Rone Lag Jaaoge.
हम पर जो गुजरी है, तुम क्या सुन पाओगे,

Mil Bhi Jate Hain Toh Katra Ke Nikal Jate Hain,
Hain Mausam Ki Tarah Log.... Badal Jaate Hain,
Hum Abhi Tak Hain Giraftar-e-Mohabbat Yaaro,
Thokarein Kha Ke Suna Tha Ke Sambhal Jate Hain.

मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं,
हैं मौसम की तरह लोग... बदल जाते हैं,
हम अभी तक हैं गिरफ्तार-ए-मोहब्बत यारों,
ठोकरें खा के सुना था कि संभल जाते हैं।

Chaman Mein Jo Bhi They Naafiz Usool Uske They,
Tamaam Kaante Hamaare They Aur Phool Uske They,
Main Iltejaa Bhi Kartaa Toh Kis Tarha Kartaa,
Shahar Mein Faisle Sabko Qabool Uske They.

चमन में जो भी थे नाफ़िज़ उसूल उसके थे,
तमाम कांटे हमारे थे और फूल उसके थे,
मैं इल्तेज़ा भी करता तो किस तरह करता,
शहर में फैसले सबको कबूल उसके थे।

Khawab Tha Bhikar Gaya Khayal Tha Mila Nahi,
Magar Ye Dil Ko Kya Hua Ye Kyu Bujha Pata Nahi,
Tamaam Din Udaas Din Tamaam Shab Udasiyan,
Kisi Se Koi Bichhad Gaya Jaise Kuch Bacha Nahi.

ख्वाब था बिखर गया ख्याल था मिला नहीं,
मगर ये दिल को क्या हुआ ये क्यूँ बुझा पता नहीं,
तमाम दिन उदास दिन तमाम शब् उदासियाँ,
किसी से कोई बिछड़ गया जैसे कुछ बचा नहीं।

Justajoo Khoye Huye Ki Umar Bhar Karte Rahe,
Chaand Ke Humraah Hum Har Shab Safar Karte Rahe,
Raaston Ka ilm Tha Na Hum Ko Simton Ki Khabar,
Shahar-e-NaMaloom Ki Chaahat Magar Karte Rahe.

जुस्तजू खोये हुए की उम्र भर करते रहे,
चाँद के हमराह हम हर शब सफ़र करते रहे,
रास्तों का इल्म था न हमको सिम्तों की खबर,
शहर-ए-नामालूम की चाहत मगर करते रहे।

Bas Yehi Baat Ke Kisi Ko Na Chaho Dil Se,
Tajurbe Iss Ke Siwa Umr Ko Kya Dete Hai.

बस यही बात कि किसी को ना चाहों दिल से,
तज़ुर्बे इस के सिवा उम्र को क्या देते हैं।

Qabron Mein Nahi Humko Kitaabon Mein Utaro,
Hum Log Mohabbat Ki Kahani Mein Mare Hain.

क़ब्रों में नहीं हम को किताबों में उतारो,
हम लोग मोहब्बत की कहानी में मरे हैं।

Ja Aur Koi Jabt Ki Duniya Talash Kar,
Ai Ishq Hum Toh Ab Tere Qabil Nahi Rahe.

जा और कोई ज़ब्त की दुनिया तलाश कर,
ऐ इश्क़ हम तो अब तेरे क़ाबिल नहीं रहे।

Koi Toh Hai Mere Andar MujhKo Sambhale Huye,
Ke BeQarar Hokar Bhi BarQarar Hoon Main.

कोई तो है मेरे अंदर मुझको संभाले हुए,
कि बेकरार होकर भी बरक़रार हूँ मैं।

Samajh Pata Hun Der Se Main Daaon-Pench Uske,
Wo Bazi Jeet Jata Hai Mere Chalak Hone Tak.

समझ पाता हूँ देर से मैं दांव-पेंच उसके,
वो बाजी जीत जाता है मेरे चालाक होने तक।

Humari Khoj Mein Rehti Thi Titliyaan Aksar,
Ke Apne Shahar Ka Husn-o-Jamaal The Hum Bhi.

हमारी खोज में रहती थीं तितलियाँ अक्सर,
कि अपने शहर का हुस्न-ओ-जमाल थे हम भी।

Woh Andhera Hi Sahi Tha Ke Kadam Rah Par The,
Roshni Le Aayi Mujhe Manzil Se Bahut Dur.

वो अँधेरा ही सही था कि कदम राह पर थे,
रोशनी ले आई मुझे मंजिल से बहुत दूर।

Bichhad Ke Mujh Se Tum Apni Kashish Na Kho Dena,
Udaas Rahne Se Chehra Kharab Hota Hai.

बिछड़ के मुझसे तुम अपनी कशिश न खो देना,
उदास रहने से चेहरा खराब होता है।
Sad Shayari 2019

Abhi Toh Chur-Chur Hi Huye Hain Tere Ishq Mein,

Mere Bikharne Ka Khel Toh Abhi Baaki Hai.

अभी तो चूर-चूर ही हुए है तेरे इश्क में,
मेरे बिखरने का खेल तो अभी बाकी है।

Main Paa Nahi Saka Iss Kashmkash Se Chhutkara,
Tu Mujhe Jeet Bhi Sakta Tha Magar Haara Kyun?

​मैं पा नहीं सका इस कशमकश से छुटकारा​,
तू मुझे जीत भी सकता था मगर ​हारा क्यूँ​।

Na Haath Thaam Sake Aur Na Pakad Sake Daaman,
Bahut Hi Kareeb Se Gujar Kar Bichhad Gaya Koi.

न हाथ थाम सके और न पकड़ सके दामन,
बहुत ही क़रीब से गुज़र कर बिछड़ गया कोई।

Shikaytein Bhi Thi Use Toh Mere Khuloos Se,
Ajeeb Shakhs Tha Meri Aadatein Na Samajh Saka.

शिकायतें भी थी उसे तो मेरे ख़ुलूस से,
अजीब शख्स था मेरी आदतें ना समझ सका।

Toot Kar Reh Gaya Hai Khud Se Rishta Apna,
Ek Muddat Hui Ke Dekha Nahi Chehra Apna.

टूट कर रह गया है खुद से रिश्ता अपना,
एक मुद्दत हुई कि देखा नहीं चेहरा अपना।

Iss Dil Ko Kisi Ki Aahat Ki Aas Rehti Hai,
Nigaah Ko Kisi Surat Ki Talash Rehti Hai,
Tere Bina Zindagi Mein Kami To Nahi,
Phir Bhi Tere Bina Zindagi Udhaas Rehti Hai.

इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है,
निगाह को किसी सूरत की तलाश रहती है,
तेरे बिना जिन्दगी में कोई कमी तो नही,
फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है।

Tum Apna Ranjo-Gam Apni Pareshani Mujhe De Do,
Tumhein Meri Kasam Yeh Dukh Yeh Hairani Mujhe De Do,
Yeh Maana Main Kisi Kabil Nahi Inn Nigahon Ke,
Bura Kya Hai Agar Iss Dil Ki Veerani Mujhe De Do.

तुम अपना रंजो-गम अपनी परेशानी मुझे दे दो,
तुम्हें मेरी कसम यह दुख यह हैरानी मुझे दे दो।
ये माना मैं किसी काबिल नहीं इन निगाहों में,
बुरा क्या है अगर इस दिल की वीरानी मुझे दे दो।

Khoya Itna Kuchh Ke Humein Paana Na Aaya,
Pyaar Kar Toh Liya Par Jatana Na Aaya,
Aa Gaye Tum Iss Dil Mein Pahali Najar Mein,
Bas Humein Aapke Dil Mein Samana Na Aaya.

खोया इतना कुछ कि हमें पाना न आया,
प्यार कर तो लिया पर जताना न आया,
आ गए तुम इस दिल में पहली नज़र में,
बस हमें आपके दिल में समाना ना आया।

Kuchh Iss Tarah Se Gujaari Hai Zindgi Jaise,
Tamaam Umr Kisi Dusre Ke Ghar Mein Raha.

कुछ इस तरह से गुज़ारी है ज़िंदगी जैसे,
तमाम उम्र किसी दूसरे के घर में रहा।

Zindagi Sirf Isee Dhun Mein Gujare Jayein,
Bas Tera Naam, Tera Naam Pukare Jayein,
Jab Yeh Tay Hai Ke Yahan Koi Nahin Aayega,
Kis Ki Khatir Dar-O-Deewar Sanware Jayein.

ज़िंदगी सिर्फ इसी धुन में गुजारे जायें,
बस तेरा नाम, तेरा नाम पुकारे जायें,
जब ये तय है कि यहाँ कोई नहीं आएगा,
किस की खातिर दर-ओ-दीवार सँवारे जायें।
~ Adeem Hashmi

Uska Chehra Bhi Sunaata Hai Kahani Uski,
Chahte Hain Ke Sunoo Uss Se Jubaani Uski.
Wo SitamGar Hai Toh Ab Uss Se Shikayat Kaise,
Aur Sitam Karna Bhi Aadat Hai Purani Uski.

उसका चेहरा भी सुनाता है कहानी उसकी,
चाहते हैं कि सुनूँ उस से ज़ुबानी उस की,
वो सितमगर है तो अब उससे शिकायत कैसी,
और सितम करना भी आदत है पुरानी उसकी।
~ Rehana Qamar

Bewaqt Bewajah Besabab Si Berukhi Teri,
Phir Bhi Beinteha Chahne Ki Bebasi Meri.

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।
नाजुक सा दिल रखते हो, रोने लग जाओगे।

Udaas Kar Deti Hai Har Roj Yeh Shaam Mujhe,
Lagta Hai Tu Bhool Raha Hai Mujhe Dheere-Dheere.

उदास कर देती है हर रोज ये शाम मुझे,
लगता है तू भूल रहा है मुझे धीर-धीरे।

Itna Bhi Ikhteyaar Nahi Mujhko Bazm Mein,
Shamayein Agar Bujhein Toh Main Dil Jala Sakun.

इतना भी इख्तियार नहीं मुझको वज़्म में,
शमाएँ अगर बुझें तो मैं दिल को जला सकूँ।

Gila Bhi Tujh Se Bahut Hai Magar Mohabbat Bhi,
Woh Baat Apni Jagah Hai Yeh Baat Apni Jagah.

गिला भी तुझ से बहुत है मगर मोहब्बत भी,
वो बात अपनी जगह है ये बात अपनी जगह।

Tum Raah Mein Chup-Chap Khade Ho Toh Gaye Ho,
Kis-Kis Ko Bataoge Ghar Kyun Nahi Jaate.

तुम राह में चुप-चाप खड़े हो तो गए हो,
किस-किस को बताओगे घर क्यों नहीं जाते।

Aaye Bhi Log Gaye Bhi Uthh Bhi Khade Huye,
Main Jaa Hi Dekhta Teri Mehfil Mien Rah Gaya.

आये भी लोग, गये भी, उठ भी खड़े हुए,
मैं जा ही देखता तेरी महफिल में रह गया।

Ajeeb Tarah Se Gujar Gayi Meri Bhi Zindgi,
Socha Kuchh, Kia Kuchh, Hua Kuchh, Mila Kuchh.

अजीब तरह से गुजर गयी मेरी भी जिंदगी,
सोचा कुछ, किया कुछ, हुआ कुछ, मिला कुछ।

Kisi Ka Yun Toh Hua Kaun Umr Bhar Phir Bhi,
Yeh Husn-o-Ishq Toh Dhokha Hai Magar Phir Bhi.

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी,
ये हुस्न-ओ-इश्क़ तो धोखा है सब मगर फिर भी।

Naadani Ki Hadd Hai Jara Dekho Toh Unhein,
Mujhe Kho Kar Wo Mere Jaisa Dhhoondh Rahe Hain.

नादानी की हद है जरा देखो तो उन्हें,
मुझे खो कर वो मेरे जैसा ढूढ़ रहे हैं।

Itni Shiddat Se Na Kar Tark-e-Talluq Ka Sawaal,
Aisa Na Ho Ke Hum Se Teri Baat Na Taali Jaye..

इतनी शिद्दत से ना कर तर्क-ए-ताल्लुक का सवाल,
ऐसा ना हो कि हम से तेरी बात ना टाली जाए।

Bikhra Wajood, Toote Khwaab, Sulagti Tanhaiyan,
Kitne Haseen Tohfe De Jati Hai Yeh Mohabbat.

बिखरा वज़ूद, टूटे ख़्वाब, सुलगती तन्हाईयाँ,
कितने हसींन तोहफे दे जाती है ये मोहब्बत।

Miley Toh Hajaaron Log The Zindagi Mein Yaaron,
Woh Sab Se Alag Tha Jo Kismat Mein Nahi Tha.

मिले तो हजारों लोग थे ज़िंदगी में यारों,
वो सब से अलग था जो किस्मत में नहीं था।
Sad Shayari in English

Lamhon Ki Daulat Se Dono Hi Mahroom Rahe,

Mujhe Churana Na Aaya Tumhein Kamana Na Aaya.

लम्हों की दौलत से दोनों ही महरूम रहे,
मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया।

Ab Kya Jawaab Dun Main Koi Mujhe Bataye,
Woh Mujhse Keh Rahe Hain Kyun Meri Aarzoo Ki.

अब क्या जवाब दूँ मैं कोई मुझे बताये,
वह मुझसे कह रहे हैं क्यों मेरी आरज़ू की।

Laga Kar Aag Seene Mein Chale Ho Tum Kahan,
Abhi Toh Raakh Udne Ka Tamasha Aur Hona Hai.

लगा कर आग सीने में चले हो तुम कहाँ,
अभी तो राख उड़ने दो तमाशा और होना है।

Bikhri Kitaabein Bheege Palak Aur Yeh Tanhai,
Kahun Kaise Ke Mila Mohabbat Mein Kuchh Bhi Nahi.

बिखरी किताबें भीगे पलक और ये तन्हाई,
कहूँ कैसे कि मिला मोहब्बत में कुछ भी नहीं।

Agar Tum Samjh Paate Meri Chaahat Ki Intehan,
Toh Hum Tumse Nahi, Tum Humse Mohabbat Karte.

अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तेहा,
तो हम तुमसे नहीं, तुम हमसे मोहब्बत करते।

Do Hisso Mein Bant Gaye Mere Tamaam Armaan,
Kuchh Tujhe Paane Nikle, Kuchh Mujhe Samjhaane.

दो हिस्सो में बंट गये मेरे तमाम अरमान,
कुछ तुझे पाने निकले, कुछ मुझे समझाने।

Dekh Kar Mujhko Nigaahein Fer Kyun Lete Ho Tum,
Kya Mere Chehare Pe Apna Aks Dikhta Hai Tumhein.

देख कर मुझको निगाहें फेर क्यूँ लेते हो तुम,
क्या मेरे चेहरे पे अपना अक्स दिखता है तुम्हें।

Hum Jaante To Ishq Na Karte Kisi Ke Saath,
Le Jaate Dil Ko Khaak Mein Iss Aarzoo Ke Saath.

हम जानते तो इश्क़ न करते किसी के साथ,
ले जाते दिल को खाक में इस आरज़ू के साथ।

Bas Itni Baat Pe Sab Ahl-e-Mehfil Ho Gaye Barham,
Ke Tere Naam Ke Hamraa Mera Naam Kyon Aaya.

बस इतनी बात पे सब अहल-ए-महफ़िल हो गए बरहम,
कि तेरे नाम के हमरा मेरा नाम क्यूँ आया।

Na Jaane Iss Zid Ka Nateeja Kya Hoga,
Samjhata Dil Bhi Nahi Main Bhi Nahi Tum Bhi Nahi.

ना जाने इस ज़िद का नतीजा क्या होगा,
समझता दिल भी नहीं मैं भी नहीं और तुम भी नहीं।

Sirf Ek Mohabbat Ki Roshni Hi Baaki Hai,
Varna Jis Taraf Dekho Dur Tak Andhera Hai.

सिर्फ एक मोहब्बत की रौशनी ही बाकी है,
वरना जिस तरफ देखो दूर तक अँधेरा है।

Unke Paas Aane Ki Khwahish To Bahut Thi Magar,
Paas Aakar Pata Chala Mohabbat Faaslon Mein Thi.

उनके पास आने की ख्वाहिश तो बहुत थी मगर,
पास आकर पता चला मोहब्बत फासलों में है।

Wo Tere Khat Teri Tasvir Aur Sookhe Phool,
Udaas Karti Hain Mujh Ko Nishaniyan Teri.

वो तेरे खत तेरी तस्वीर और सूखे फूल,
उदास करती हैं मुझ को निशानियाँ तेरी।

Seekh Kar Gaya Hai Woh Mohabbat Mujhse,
Jis Se Bhi Karega Be-Misaal Karega.

सीख कर गया है वो मोहब्बत मुझसे,
जिस से भी करेगा बेमिसाल करेगा।

उसे जाने की जल्दी थी
तो मैं आँखों ही आँखों में
जहाँ तक छोड़ सकता था
वहाँ तक छोड़ आया हूँ।

Yeh Makaam-e-Ishq Hai Kaun Sa
Ke Mijaaj Saare Badal Gaye,
Main Ise Kahoon Bhi Toh Kya Kahoon
Mere Haath Phool Se Jal Gaye.

ये मकाम-ए-इश्क़ है कौन सा
कि मिजाज सारे बदल गए,
मैं इसे कहूँ भी तो क्या कहूँ
मेरे हाथ फूल से जल गए।

Ab TumKo Bhool Jaane Ki Koshish Karenge Hum,
Tum Se Bhi Ho Sake Toh Na Aana Khayal Mein.

अब तुम को भूल जाने की कोशिश करेंगे हम
तुम से भी हो सके तो न आना ख़याल में।

Humein Apne Ghar Se Chale Hue,
Sar-e-Raah Umar Gujar Gayi,
Na Koi Justjoo Ka Sila Mila,
Na Safar Ka Haq Hi Adaa Hua.

हमें अपने घर से चले हुए,
सरे राह उमर गुजर गई,
न कोई जुस्तजू का सिला मिला,
न सफर का हक ही अदा हुआ।

Naseeb Apna Asar Har Haal Mein,
Dikhla Hi Jata Hai,
Chalo Kitna SambhalKar,
Paaon Thhokar Kha Hi Jata Hai.

नसीब अपना असर हर हाल में
दिखला ही जाता है,
चलो कितना संभलकर
पाँव ठोकर खा ही जाता है।
Zindagi Sad Shayari

Kahin Kisi Roj Yun Bhi Hota,

Humari Haalat Tumhari Hoti,
Jo Raat Humne Gujari Tadap Kar,
Woh Raat Tumne Gujari Hoti.

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता,
हमारी हालत तुम्हारी होती,
जो रात हमने गुजारी तड़प कर,
वो रात तुमने गुजारी होती।

Kisi Ko Ghar Se Nikalte Hi Mil Gayi Manzil,
Koi Humari Tarah Umr Bhar Safar Mein Raha.

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंजिल,
कोई हमारी तरह उम्र भर सफर में रहा।

Teri Nigaah Mein Ek Rang-e-Ajnabiyat Tha,
Kis Aitbaar Pe Hum Khul Ke Guftugu Karte.

तेरी निगाह में एक रंग-ए-अजनबियत था,
किस ऐतबार पे हम खुल के गुफ्तगू करते।

Najar Bacha Ke Gujar Jayein Woh Mujhse Lekin,
Mere Khayal Se Daaman Woh Bacha Nahi Sakte.

नजर बचा कर गुजर जाएँ वो मुझसे लेकिन,
मेरे ख्याल से दामन वो बचा नहीं सकते।

Kuchh Itne Diye Hain Hasrat-e-Deedar Ne Dhokhe,
Woh Saamne Baithhe Hain Yakeen HumKo Nahi Hai.

कुछ इतने दिए हसरत-ए-दीदार ने धोखे,
वो सामने बैठे हैं यकीन हम को नहीं है।

Tujhko Bhi Ab Apni Kasamein
Apne Vaade Yaad Nahi,
Hum Bhi Apne Khwaab Teri
Aankhon Mein Rakh Kar Bhool Gaye.

तुझको भी जब अपनी कसमें
अपने वादे याद नहीं,
हम भी अपने ख्वाब तेरी
आँखों में रख कर भूल गए।

Iss Mohabbat Ki Kitaab Ke,
Bas Do Hi Sabak Yaad Huye,
Kuchh Tum Jaise Aabaad Huye,
Kuchh Hum Jaise Barbaad Huye.

इस मोहब्बत की किताब के,
बस दो ही सबक याद हुए,
कुछ तुम जैसे आबाद हुए,
कुछ हम जैसे बरबाद हुए।

Usey Jaane Ki Jaldi Thi
Toh Main Aankhon Hi Aankhon Mein,
Jahan Tak Chhod Sakta Tha
Wahan Tak Chhod Aaya Hun.

Kyun Hijr Ke Shikwe Karta Hai
Kyun Dard Ke Rone Rota Hai,
Ab Ishq Kiya Toh Sabr Bhi Kar
Isme Toh Yehi Sab Hota Hai.

क्यों हिज्र के शिकवे करता है
क्यों दर्द के रोने रोता है,
अब इश्क़ किया तो सब्र भी कर
इस में तो यही कुछ होता है।

Kabhi Hum Mile Toh Bhi Kya Mile
Wahi Dooriya Wahi Fasle,
Na Kabhi Humare Kadam Barhe
Na Kabhi Tumhari Jhijhak Gayi.

कभी हम मिले तो भी क्या मिले
वही दूरियाँ वही फ़ासले,
न कभी हमारे कदम बढ़े
न कभी तुम्हारी झिझक गई।

Tumhein Chahne Ki Wajah Kuchh Bhi Nahi,
Bas Ishq Ki Fitrat Hai Be-Wajah Hona.

तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क की फितरत है बे-वजह होना।

Anjaam-e-Wafa Ye Hai Jisne Bhi Mohabbat Ki,
Marne Ki Duaa Maangi Jeene Ki Sazaa Payi.

अंजाम-ए-वफ़ा ये है जिसने भी मोहब्बत की,
मरने की दुआ माँगी जीने की सज़ा पाई।
www.hindishayari.guru
Hope you will like our sad shayari hindi collection and share it on social media

Post a Comment

0 Comments